एमएसएमई (MSME) क्या है? एमएसएमई (MSME) फुल फॉर्म क्या है ? सभी जानकारी

दोस्तों! आज हम बात करेंगे “एमएसएमई (MSME) क्या है? एमएसएमई (MSME) फुल फॉर्म क्या है ?” के बारे में। MSME को भारत सरकार द्वारा चलाया जाता है। लघु व् सूक्ष्म उद्योगों को बढ़ावा देना इनका मुख्य उद्देश्य है। छोटे छोटे उद्योगों को MSME अनेक तरह से फायदा पहुंचता है। भारत सरकार समय समय पर MSME के माध्यम से लघु व् सूक्ष्म व्यवसायिकों को अनेक तरह की सुविधा देती रहती है। अगर आपको इसके बारे में नहीं पता है तो आज हम इसके बारे में ही जानकारी देने जा रहे है।

एमएसएमई (MSME) फुल फॉर्म क्या है ?

MSME full form in English

Full form of MSME in English Ministry of Micro, Small & Medium Enterprises (MSME)

MSME full form in Hindi

MSME की फुल फॉर्म हिंदी में – सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (MSME)

एमएसएमई (MSME) क्या है?

एमएसएमई को साल 2006 में शुरू किया गया था। इससे पहले यह कृषि मंत्रालय के अंतर्गत आता था। लेकिन इसे बाद में अलग कर दिया गया। MSME का कार्य होता है छोटे और मध्यम वर्ग के व्यवसाय करने वालो को आर्थिक रूप से सहायता प्रदान करना। जिससे वह अपने व्यवसाय को निरंतर रूप से चला सके। व्यवसाय के अनुसार ही उसे आर्थिक सहायता दी जाती है।

MSME में संशोधन

MSME को दो आधारों पर परिभाषित किया गया है। पहला है उत्पादन और दूसरा है सेवा। पहले उद्योगों की परिभाषा का आधार था उसमे इस्तेमाल होने वाली मशीनरी और उपकरण। लेकिन बाद में इसे बदला गया। साल 2018 में गिरिराज जी के द्वारा एक विधेयक लाया गया और सर्वसम्मति के इसे पास करवाया गया। अब उद्योगों को उसे टर्नओवर के अनुसार परिभाषित किया जाता है।

नई परिभाषा के अनुसार अब कुछ इस तरह है –

  • जिसका टर्नओवर 5 करोड़ से कम होगा उसे सूक्ष्म उद्योग माना जायेगा।
  • 5 करोड़ से 75 करोड़ रुपये सालाना टर्नओवर वाले उद्योग को लघु उद्योग माना जायेगा।
  • 75 करोड़ से 250 करोड़ रुपये सालाना टर्नओवर वाले उद्योग को मध्यम उद्योग माना जायेगा।

यह भी पढ़ें – गाड़ियों में अलग अलग रंग की नंबर प्लेट क्यों लगायी जाती हैं?

MSME के लाभ क्या है ?

  • रजिस्ट्रेशन कराने से आपको एक सर्टिफिकेट मिलता है।
  • कम दर पर ब्याज मिलता है।
  • MSME में रजिस्ट्रेशन करवाने से टैक्स में भी छूट मिलती है।
  • काम करने के लिए कम दर पर लोन मिलता है।
  • मशीन और उपकरण खरीदने पर छूट मिलती है।
  • जो उद्योग MSME में पंजीकृत है उन्हें सब्सिडी भी दी जाती है।

MSME का रजिस्ट्रेशन कैसे किया जाता है ?

  • सबसे पहले आपको MSME ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा।
  • फिर अपना नाम और आधार नंबर डालना होगा।
  • उसके बाद आपके नंबर पर OTP आएगा जिसे स्त्यापन करने के बाद आगे बढ़ेंगे।
  • अब न्यू रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करना है।
  • अब आपके सामने एक फॉर्म आ जायेगा जिसमे आपकी और आपके व्यवसाय से सम्बंधित सभी जानकारी देनी है।
  • उसके बाद फॉर्म को सबमिट कर देना है।
  • फॉर्म सबमिट होने के बाद आपकी ईमेल पर सर्टिफिकेट को भेज दिया जाता है।

MSME के रजिस्ट्रेशन में इस्तेमाल होने वाले दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • जगह के दस्तावेज
  • आय कर दस्तावेज
  • उद्यम का नाम
  • अगर किराय पर जगह है तो रेंट एग्रीमेंट
  • MCD/Police NOC

मंत्रियो की सूची

लघु उद्योग मंत्रालय

  • वसुंधरा राजे (1999 – 2003)
  • सी पी ठाकुर (2003 – 2004)
  • महावीर प्रसाद (2004 – 2007)

कृषि और ग्रामीण उद्योग मंत्रालय

  • वसुंधरा राजे (1999 – 2001)
  • करिया मुंडा (2001 – 2003)
  • संघ प्रिया गौतम (2003 – 2004)
  • महावीर प्रसाद (2004 – 2007)

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय

  • महावीर प्रसाद (2007 – 2009)
  • दिनशा पटेल (2009 – 2011)
  • वीरभद्र सिंह (2011 – 2012)
  • विलासराव देशमुख (2012 – 2012)
  • वायलार रवि (2012 – 2012)
  • के एच मुनियप्पा (2012 – 2014)
  • कलराज मिश्र (2014 – 2017)
  • गिरिराज सिंह (2017 – 2019)
  • नितिन गडकरी (2019 – अब तक)

निष्कर्ष

तो दोस्तों आज आपने जाना की एमएसएमई (MSME) क्या है? एमएसएमई (MSME) फुल फॉर्म क्या है ? पूरी कोशिश की गयी है आपको सभी तरह की MSME से जुडी जानकारी देने की। उम्मीद है आपको जरूर पसंद आया होगा।

यह भी पढ़ें –

आशा करता हूँ आपको ये जानकारी जरूर पसंद आयी होगी। अगर आपको ये जानकारी पसंद आयी हो तो जरूर Comment Box में बताएं और अगर आप कुछ पूछना या बताना चाहते है तो कृपया Comment करे, मैं जरूर Reply देनें की कोशिश करूँगा।

Leave a Comment