ध्वजारोहण और ध्वज फहराना ? ऐसे 6 प्रश्न जिनका उत्तर शायद ही आपको पता हो !

दोस्तों हम रोजाना सैकड़ो काम करते है और हज़ारों चीजें देखते है। लेकिन कुछ चीज़े हम रोजाना देखने के बाद भी हमें पता नहीं होता, की उनका मलतब क्या है?, उनका क्या इस्तेमाल होता है ? जैसे ध्वजारोहण और ध्वज फहराना ? LPG सिलिंडर पर छपे नम्बरों का मतलब क्या होता है ?, Wash Basin पर छेद क्यों किया जाता है ? तो ऐसे ही कुछ प्रश्न और उनके उत्तर आज आपके लिए है।

ध्वजारोहण और ध्वज फहराना ? ऐसे 6 प्रश्न जिनका उत्तर शायद ही आपको पता हो !

LPG सिलिंडर पर छपे नम्बरों का मतलब?

एलपीजी सिलिंडर हम सभी अपने घरों में इस्तेमाल करते आ रहे है, पर क्या आपने कभी उसपर लिखे नम्बरों पर ध्यान दिया है। जो इस तरह से होते है B22, C27 आदि।

इन नंबर का मतलब होता है जी इस सिलिंडर की जाँच कब करनी है। सिलिंडर लोहे के बनाये जाते है। इसलिए समय से साथ उनका क्षरण भी होता रहता है। जब सिलिंडर का निर्माण किया जाता है , तब उन पर अगली जाँच की तारीख़ डाल दी जाती है।

इन तारीख पर सिलिंडर की दोबारा जाँच की जाती है। की यह दोबारा इस्तेमाल करने के लायक है या नहीं। अगर जाँच में कुछ गड़बड़ी पायी जाती है, तो सिलिंडर को रिजेक्ट कर दिया जाता है।

एलपीजी सिलिंडर पर लिखे पहले अक्षर का अर्थ महीनों से होता है, जबकि अंत के दो नंबर साल को दर्शाते है।

  • A का मतलब जनवरी-मार्च
  • B का मतलब अप्रैल-जून
  • C का मतलब जुलाई-सितम्बर
  • D का मतलब अक्टूबर-दिसबंर

LPG सिलिंडर पर नीचे छेड़ क्यों बनाये जाते है?

हम सभी जानते है की घरों में इस्तेमाल होने वाले सिलिंडरो में LPG ( Liquefied Petroleum Gas – द्रवित पेट्रोलियम गैस ) होती है। जो काफी ज्वलनशील होती है। जब गर्मियों का समय होता है। तब सिलिंडर गर्म हो जाते है। तब गर्मी के कारण अंदर भरी हुई गैस भी गर्म होने लगती है। गर्म गैस फ़ैलाने लगती है।

सिलिंडर में नीचे छेद बनाने का मुख्य कारण होता है , हवा की निकासी, ताकि सिलिंडर का तापमान अधिक न हो। इसका दूसरा कारण है लोहे में जंक लगना। अगर सिलिंडर की तली में कभी पानी लग जाता है। तो इन छेदो से आने वाली हवाओं से जल्द सूख जाता है। जिसके कारण जंक आसानी से नहीं लगता।

Wash Basin पर छेद क्यों किया जाता है ?

दोस्तों Wash Basin में इस छेद का असली काम होता है। पानी की निकासी। जी हाँ ! यह छेद इसलिए दिया जाता है, की जब कभी इसमें पानी ज्यादा हो जाये तो वह पानी इस छेद के जरिये बहार निकल जाये। मतलब अगर हम कभी गलती से नल खोलकर भूल जाते है। पानी इसमें भर कर बाहर निकल सकता है। ऐसा ना हो इसके लिए यह छेद किया जाता है।

भारतीय मुद्रा पर दाएं और बांये लकीरें क्यों बनाई जाती है ?

भारतीय मुद्रा को पहचानने के लिए सभी का ध्यान रखा गया है। हम सभी रोज़ाना पैसो का लेन-देन करते है। लेकिन हमारे लिए नोटों को पहचानना काफी आसान है। पर यह छोटा सा काम, एक नेत्रहीन व्यक्ति के लिए बहुत बड़ा है। इसलिए उनको भी ध्यान में रखते हुए भारतीय सरकार ने नोटों पर कुछ लाइन बनायीं है। ताकि नेत्रहीन व्यक्ति भी इन लाइन को छूकर नोटों की पहचान कर सके।

ध्वजारोहण और ध्वज फहराना में क्या अंतर है ?

गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर हम सभी हर बार झंडे को फहरते हुए देखते है, पर क्या आपको पता है? झण्डा फहराना और ध्वजारोहण करना दोनों अलग अलग बातें है। तो आइये इनके बीच का अंतर जानते है।

ध्वजारोहण

प्रत्येक वर्ष 15 अगस्त को हम आजादी का पर्व मानते है। क्योंकि इसी दिन हमारा देश आजाद हुआ था। इसलिए इस दिन हम ध्वजारोहण करते है। इसका मतलब अंग्रेजों का झण्डा उतारकर भारत का तिरंगा लगाया गया था। इस वजह से 15 अगस्त को ध्वजारोहण किया जाता है।

झंडा फहराना

26 जनवरी को हम गणतंत्र दिवस के रूप में मानते है। क्योंकि इस दिन हमारा सविंधान लागु हुआ था। इस ख़ुशी में हर साल भारतीय झण्डा फहराते है। इस दिन सिर्फ झंडा फेहराया जाता है।

फिल्मों के सर्टिफिकेट पर अ/U जैसे शब्दों का मतलब ?

फिल्म शुरू होने से पहले आने वाले संदेशों से आप भली भाँति परिचित है। साथ ही फिल्म के सर्टिफिकेट को दर्शाया जाता है। जिसमे कुछ ऐसे जाने पहचाने से अक्षर होते है जैसे अ/U, अव/UA आदि, पर क्या आप इनका मतलब जानते है। अगर आपका जवाब नहीं है, तो चिंता मत करो। आज आप इनके बारे में जान जाएंगे।

अ/U का मतलब

अगर आपको फिल्म में दिखाए गए सर्टिफिकेट में अ/U लिखा नजर आता है, तो इसका मतलब है, इस इस फिल्म को कोई भी व्यक्ति देख सकता है। जैसे बच्चे, किशोर, जवान, बूढ़े आदि।

अव/UA का मतलब

अव/UA सर्टिफिकेट वाली फिल्मे, कोई भी देख सकता है। पर जो भी बच्चे है 12 साल से काम उम्र के है। वो सभी बच्चे यह फिल्म अपने अभिभावक के निर्देशन में देख सकते है।

व/A का मतलब

अगर किसी फिल्म को सेंसर बोर्ड ने व/A सर्टिफिकेट दिया है। तो इसका मतलब है यह मूवी 18 साल से कम उम्र के व्यक्ति नहीं देख सकते है। इसे केवल वयस्क ही देख सकते है।

S का मतलब

S श्रेणी की फिल्मे कुछ स्पेशल ऑडियंस के लिए बनायीं जाती है। उसने ही S सर्टिफिकेट दिया है। इन ऑडियंस में डॉक्टर, साइंटिस्ट आदि शामिल होते है।

इन्हे पढ़ें –

आशा करता हूँ आपको ये जानकारी जरूर पसंद आयी होगी। अगर आपको ये जानकारी पसंद आयी हो तो जरूर Comment Box में बताएं और अगर आप कुछ पूछना या बताना चाहते है तो कृपया Comment करे, मैं जरूर Reply देनें की कोशिश करूँगा।

Leave a Comment